मेरी सहपाठिन को भोगने की लालसा

देसी गर्लफ्रेंड Xxx कहानी मेरी कोचिंग में पढ़ने वाली एक रसीली लड़की की है. मैं उसे देखेते ही उसके नंगे जिस्म की कल्पना करने लगता. एक दिन मुझे अवसर मिला.

लड़कियां अजीब तरह का नशा हैं; उन्हें सिर्फ देखकर ही खुमार चढ़ने लगता है।
हर रोज कहीं आते-जाते जवान लड़कियों को देखता हूँ तो मन करता है कि उन्हें बांहों में भर लूं और खूब जोर से उनके रसीले होठों को चूम लूं। उनके बदन को नंगा करके चाट लूं। उनकी पीठ, उनकी गर्दन, उनकी गांड और उनके गोरे नरम गाल अपनी जीभ से चाटने का मन करता है।

चूत के बारे में नहीं कहा तो इसका मतलब यह नहीं है कि चूत चाटने का मन नहीं करता।

मैं लड़कियों में सबसे पहले उनकी चूत ही देखता हूँ।
उनकी जीन्स के नीचे पैंटी और पैंटी के नीचे दबी हुई चूत!
इतनी कल्पना करने के बाद मैं उसे चाटने के बारे में सोचता हूँ।

फिर मैं लड़की के चेहरे पर आता हूँ और उसके होठों को बड़े गौर से देखता हूँ।
लगता है जैसे अपना लंड ले जाकर उनके होठों के बीच में डाल दूं और पेलने लगूं।

यह सब मैं हर लड़की को देखकर सोचता हूँ।
कोई लड़की मेरी सोच में ज्यादा देर कपड़ों के साथ नहीं रहती है।

मैं इसे अपनी सोच से बाहर निकलकर सच में करना चाहता था।

एक बार मेरे हाथ यह मौका लग गया।

मैं जिस कोचिंग में पढ़ता था वहां चिन्मयी नाम की लड़की ने एडमिशन लिया था।

चिन्मयी शरीर से थोड़ी भरी हुई और दिखने में किसी हिरोइन से कम नहीं थी।
उसके होंठ खूब लाल और रसीले मालूम पड़ते थे।

एकदम गोरी-चिट्टी चिन्मयी मुझे पहले ही दिन और पहली ही नजर में पसंद आ गई थी।
मैं उसकी गांड पीछे से देखा करता था।

वह साईकल से कोचिंग आती थी।
अक्सर जीन्स और टॉप पहनने वाली उस लड़की का चेहरा बहूत हँसमुख था।

मैं रोज सोचता कि आज इसने कौन से रंग की पैंटी पहनी होगी।
उसकी जीन्स के ऊपर मैं उसकी पैंटी को इमेजिन करता।

मुझे उसके रसीले होठ इतने प्यारे लगते कि मन करता था कि किसी तरह उसे छू लूं।

चिन्मयी बहुत एकांत में रहती थी।
बहुत किसी से बात नहीं करती थी।

उस दिन ऐसा हुआ कि कोचिंग खतम होते होते काफी देर हो गई।
अंधेरा हो गया।

सर्दियों के दिन … ऊपर से यह बारिश जो रुकने का नाम नहीं ले रही थी।

7 बजे सब लोग क्लास खत्म होने के बाद अपने अपने घर जाने लगे।

मैं रोज की तरह उस दिन भी चिन्मयी की गांड देखने के लिए क्लास में ही रुका रहा।
फिर वह आई।

उसने उस दिन एक मैरून रंग का स्वेटर पहन रखा था। उसके ऊपर ग्रे कलर की टोपी लगा रखी थी।

गुलाबी जूते और कसी हुई जीन्स में वह रोज की तरह मस्त माल दिख रही थी।

क्लासरूम से निकलते हुए मैं पहले तो उसके उभरे हुए सीने पर देखता रहा और सोचता रहा कि इसके बूब्स कितने बड़े होंगे।

उस लड़की को इस बात का अंदाज़ा भी नहीं था कि इतने कपड़े पहनने के बाद भी किसी अनजान लड़के की नज़र में वह नंगी है; उसे उसके बूब्स दिख रहे हैं; उसके कत्थई निप्पल, उसकी झांटों वाली चूत जो थोड़ी काली सी भी है। उसकी गांड का छोड़ा सा छेद जिसमें एक उंगली भी नहीं जा रही है। उसका गोरा कोमल जिस्म, जिस पर एक गुलाबी जीभ घिसट रही है।

मैं ये सब सोच रहा था कि वह मेरे सामने से गुजरी।
उसका पूरा पिछवाड़ा मेरे सामने था।

ऊपर स्वेटर और स्वेटर के नीचे कसी हुई जीन्स से झलकती उसकी बड़ी सी गांड … मैं उसके चूतड़ों को हिलते हुए देखता रहा।

जैसे जैसे वह चलती, उसकी गांड हिलने लगती।

मेरा मन किया कि अभी अपना लंड खोलूँ और जाकर उसकी जीन्स उतारकर उसकी चूत में पीछे से घुसा दूं और घंटों उसे पेलता रहूं।
लेकिन मैंने अपने आपको रोका और उसके पीछे पीछे चल दिया।

कुछ दूर जाते ही रुकी हुई बारिश फिर शुरु हो गई। हम अपनी साईकल लेकर पास के एक छप्पर की ओर भागे।

हम जिस रास्ते से जाते थे, वहां रास्ते में तकरीबन 2 किलोमीटर तक खेत वाला एरिया था।

ऐसे ही एक खेत में एक छप्पर लगा था।
मैं उसके नीचे जाकर खड़ा हो गया, और बारिश रुकने का इंतज़ार करने लगा।

अचानक मैंने देखा कि कोई और भी उसी रास्ते पर चला आ रहा है।
जब साईकल नजदीक आयी तो मैं चौंक गया।
मेरी धड़कन बढ़ गई और सांसें तेज़ हो गईं।

यह चिन्मयी थी।
वह छप्पर में रुकना चाहती थी।

लेकिन मुझे देख ठिठक गई।
वह जाने लगी तो मैंने ही आवाज़ देकर रोक लिया।
तो वह धीरे धीरे आगे बढ़ी और छप्पर के एक कोने में साईकल खड़ी कर बारिश रुकने का इंतज़ार करने लगी।

मैं जो रोज़ उसकी गांड निहारा करता था, उसे पेलने के सपने देखता था, लेकिन उस वक़्त उससे नजर नहीं मिला पा रहा था।

मेरे अंदर अजीब सी बेचैनी होने लगी थी।
पता नहीं क्यों अचानक से लंड टाइट होने लगा।

मुझे बार बार मन कर रहा था कि चिन्मयी को पकड़कर नंगा कर दूं … उसकी पैंटी मुंह में भर लूं और ब्रा को सूंघने लगूं जिसमें उसके जिस्म की खुशबू है।

मेरा मन कर रहा था कि उसके साथ सेक्स कर लूं!
कुछ नहीं तो उसके होठों को तो चूस ही लूं।

बहुत मुश्किल से मैंने खुद पर काबू पाया।
मन ही मन सोचा कि आज घर जाकर मुठ ज़रूर मारूंगा।

मैं इन सब ख्यालों में था कि अचानक मैंने आवाज़ सुनी- आप रोज इधर से ही जाते हैं?
चिन्मयी से मैं बात करना चाहता था लेकिन मुझे नहीं पता था कि वह इतना आसान होगा।
वह खुद पहल कर रही थी।

मैंने तुरन्त जबाब दिया- हां।
उसने बताया कि अक्सर वह पक्की रोड वाला रास्ता लेती थी लेकिन आज उसने जल्दी जल्दी में ये वाला रास्ता ले लिया। फिर भी बारिश से नहीं बच पाई।

बात शुरू हुई तो हम लोग काफी देर तक बात करते रहे।

मैं बीच बीच में उसके उभार और चूत की ओर भी नज़र मार लेता था। उसके चेहरे पर सिर्फ उसके होठों को देखता था, जो जब वह बोलती थी तो हिलते थे और मुंह के अंदर का हिस्सा भी दिखता था।
मेरा मन करता उसके मुंह में जीभ डालकर चाट लूं।

कुछ देर बाद बारिश बन्द हो गई और हमारी दोस्ती शुरू हो गई।
हम रोज उसी रास्ते जाने लगे।

जब हम दोस्त हुए तब हमको पहली बार पता चला कि क्लास में अक्सर चुप रहने वाले हम दोनों लोग खूब बोलते हैं।
हम व्ट्सऐप पर भी खूब चैटिंग करने लगे।

धीरे धीरे हमारी दोस्ती हद से आगे बढ़ने लगी।
मेरा तो उसे पेलने का पहले से ही इरादा था।

हालांकि मैं सिर्फ एक बार उसके जिस्म का मज़ा लेना चाहता था। उससे प्यार मुझे अब तक नहीं हुआ था।

बस मुझे वह 22 साल की गोरी लड़की अपनी बाड़ी सी गांड और मोटे होंठ के लिए पसंद थी।
उसके बूब्स के क्लीवेज कई बार मुझे बहुत ज्यादा उत्तेजित कर देते थे।

उसे मैं कैसे लगता था, इस बारे में मुझे नहीं पता था।

एक दिन चिन्मयी ने मुझे घर जाते वक्त रास्ते में ही प्रपोज कर दिया।
मैं चौंक गया। मैं सोचने लगा कि चिन्मयी को चोदने का रास्ता क्या इतना आसान था।

मैंने हां-ना कुछ नहीं कहा … बस उसी छप्पर के नीचे चला गया, साईकल खड़ी की और वहीं बैठ गया।

चिन्मयी को कुछ जवाब नहीं मिला था तो वह भी पीछे पीछे आयी और साथ बैठ गई।

अपने बगल मैं उसको महसूस करके बहुत रोमांचित हो गया।

मैं सोचने लगा कि इतनी सुनसान जगह में सिर्फ हम दो ही लोग हैं। मैं और मेरे साथ एक जवान लड़की है, जो खूबसूरत और सेक्सी है. लड़के जिसे सोच सोचकर अपना पानी निकालते हैं। कितने तो उसे पेलने का सपना देखते हैं।

अब मैं औऱ ज्यादा उत्तेजित हो गया और मेरा लंड खड़ा होने लगा।

हम दोनों कुछ देर चुप रहे।
फिर मैंने अचानक से फैसला किया कि आज मैं चिन्मयी को पेलूँगा, मज़ा आया तो उसका प्रपोजल मान लूंगा नहीं तो नहीं!

मैंने धीरे से उसके कंधे पर अपना सिर रख दिया।
उसने भी विरोध नहीं किया।

मैं उसे सूंघने की कोशिश कर रहा था और सोच रहा था कि उसके गदराए स्तनों से बहुत कम दूरी पर हूँ।
उन्हें मैं अपने मुंह में लेना चाहता था लेकिन सब एक झटके में करने से मामला बिगड़ सकता था।
इसलिए मैंने पहले उसकी गर्दन को अपनी नाक से और फिर होंठ से सहलाना शुरू किया, बाल हटाए और नंगी गोरी गर्दन पर होंठ फिराने लगा।

इतनी कोमल और गर्म त्वचा की बस मज़ा आ गया।
वह थोड़ी सी असहज होने लगी थी।

मैंने सोचा कि अब जब शुरुआत कर ही दी है तो अंजाम भी आज ही देख लेंगे। मैंने बिना देर किए अपने होंठ उसके होठों पर रख दिये।

वह चौंक गई और अपना चेहरा हटा लिया।
मैं संकोच में पड़ गया कि उसे बुरा तो नहीं लगा।

मेरी किस्मत अच्छी थी कि उसे बुरा नहीं लगा था क्योंकि अबकी बार उसने खुद मेरा सिर हाथ में लेकर मेरे होंठ पर अपने होंठ रख दिये थे।

हम लोग एक दूसरे के होठों को पहले अपने अपने होंठों से सहलाते रहे; फिर चाटने लगे, फिर चूसने लगे.
और फिर ऐसा लग जैसे कि खा जाएंगे।

मैं उसके होठों का पूरा स्वाद लेना चाहता था।
मैंने अपनी जीभ उसके मुंह के अंदर डाल दिया, उसकी जीभ पर फिराने लगा, उसकी थूक को चाटने लगा।

अब वह जमीन पर हो गई थी और मैं उसके ऊपर आ गया था।
काफी देर तक हम एक दूसरे का होठ अपने मुंह में लिए रहे।

मैं तो उसे चोदने के मूड में था ही, वह खुद चुदवाने के लिए जैसे बेचैन होने लगी थी।
वह मेरी पीठ पर अपना हाथ फेर रही थी।

मैंने उसका एक हाथ उठाया और अपनी पैंट में डाल दिया।
लंड पर मुलायम हाथ पड़ते ही मैं तो सुन्न हो गया, लगा कि अभी झड़ जाऊंगा।

उसने भी लंड छूते ही हाथ पीछे खींच लिया।
शायद पहली बार वह लंड को हाथ लगा रही थी।

मैंने कुछ नहीं कहा।

उसके गोरे बदन पर मैं पूरा लेट गया था। उसकी गर्दन और आसपास के खुले अंगों को चाट रहा था।
मुझे उसके बूब्स अपनी छाती पर महसूस हो रहे थे; अपने दोनों हाथों से उसके बूब्स पकड़ लिए।

गनीमत यह थी कि आज ठंड कम थी और अच्छी खासी धूप थी।
मैंने उसका स्वेटर निकल दिया।

उसके नीचे वह पीले रंग का टॉप पहनकर आई थी जो उस पर काफी खिल रहा था।

टॉप से उसके स्तन और उभरकर दिख रहे थे। टॉप शायद छोटा हो था उसे!

ऊपर से ही स्तन पकड़कर मैं दबाने लगा।
कुछ देर बाद मैंने इसका टॉप उतार दिया।

यह बड़ी पहल थी फिर भी उसने विरोध नहीं किया।
मैं समझ गया, आग उधर भी उतनी ही लगी है।
अब मैं सब कुछ खुलकर करना चाहता था।

टॉप निकालने के बाद मुझे अंदर सिर्फ उसके नंगे, उजले और कोमल बूब्स ही मिले।
वह ब्रा पहनकर नहीं आई थी।

मैं भी इसका कारण पूछे बिना ही बूब्स को हाथों में लेकर मसलने लगा।
जमीन पर लेटी उसने आंखें बंद कर ली थीं।

मैं उसके करीब गया और उसके स्तनों को अपने मुंह में ले लिया; उसके निपल्स और बूब्स को काफी देर तक चूसता रहा।
ऐसा लगता कि अभी दूध निकल आएगा।

फिर मैं धीरे धीरे नीचे बढ़ने लगा, नंगे पेट पर जीभ फिराने लगा, नाभि में जीभ डालकर चाटने लगा।

चाटते चाटते और नीचे पहुंचा और पैंट के ऊपर से ही उसकी चूत चाटने लगा।

नाक लगाकर सूंघने की कोशिश की कि चिन्मयी की पेशाब की गंध आ जाए।
पेशाब की गंध तो नहीं मिली लेकिन उसकी ठंडी आहें निकलनी शुरू हो गई थीं।

उसके भरे पूरे सफेद चेहरे पर यौन उत्तेजना थी। जैसे वह चाहती हो कि उसकी बुर को कपड़ों से आज़ाद कर दूं।

कुछ देर बाद मैंने वही किया, जीन्स उतार दिया।
नीचे लाल रंग की चड्डी थी, गोरे अंग पर बहुत खिल रही थी।

चड्डी के ऊपर से ही मैंने चूत को महसूस करने की कोशिश की।
मैं पहली बार असली चूत देखने वाला था। मेरे रोमांच का ठिकाना नहीं था।

मेरी बहुत ख्वाहिश थी कि कभी चिन्मयी का पेशाब पियूँ।
आज मौका था।

मैंने उसकी चड्डी के ऊपर से ही चूत चाटना शुरू कर दिया।
चड्डी के आसपास के नंगे अंगों पर भी जीभ फिराने लगा।

कोई स्वाद तो नहीं था लेकिन इससे ज्यादा टेस्टी चीज मैंने आजतक नहीं चाटी थी।
अलग जगह उसका टेस्ट महसूस हो रहा था।

मैंने उसकी गोरी टांग पूरी चाट डाली।
वह आंखें बंद किये जोर जोर सांस लेती रही।

अब बारी थी कि उस चीज को सामने लाया जाए जिसके लिए कई कई लड़के मरते हैं।
मैंने भी जिसके बारे में सिर्फ कल्पना ही की है।

अक्सर मैं लेडीज टॉयलेट के पास खड़ा हो जाता और अंदर जाने वाली लड़कियों के बारे में सोचता कि कैसे वो अपनी पैंट या सलवार या फ्रॉक या स्कर्ट या साड़ी हटाकर पैंटी निकालती होंगी।
कैसे उनकी चूत से झरने की तरह पेशाब बहता होगा।

मैं चाहता था कि सारी खूबसूरत लड़कियां मेरे मुंह में पेशाब करें! मैं वो पीना चाहता हूं।

फिलहाल तो मैं पहली बार वह चीज देखने वाला था, जिसके बारे में मैं बचपन से सिर्फ कल्पना करता था।
जो हर लड़की के पास एक जैसी होती है और जिसके लिए लड़के जान देने-लेने पर उतारू हो जाते हैं।
उसे कई लोग चूत कहते हैं। कई लोग उसे बुर भी कहते हैं।

चड्डी हटाते ही काले बालों से घिरी कत्थई फांकों वाली जवान चूत मेरे सामने थी।

पहले तो मुझे समझ नहीं आया कि क्या क्या करूं।
लगा कि इसे मुंह में भर लूं, अपने होठों और जीभ से चाट डालूं, उसमें अपनी उंगलियां डालकर खूब पेलूँ।

झांट के बाल तक खा जाने का मन कर रहा था।

मेरी सपनो की रानी अब मेरे सामने पूरी नंगी थी; जिस्म पर एक भी कपड़ा नहीं था, बूब्स खुले थे, गांड खुली थी, बुर सामने थी।
उसके होंठ भी मेरे कब्जे में थे।

मैंने अपने आपको स्थिर किया और धीरे से उसकी चूत में एक उंगली डालने की कोशिश की।
चिन्मयी तड़प गई।

मुझे लगा कि यह पहली बार है, जिसलिए आराम आराम से करना चाहिए।

मैंने उंगली को थूक से गीला किया और धीरे धीरे बूर में अंदर बाहर करने लगा।
चिन्मयी को अच्छा लग रहा था; वह आह आह करने लगी।

चूत में उंगली डालने में लेकिन खास मजा नहीं है।
मैंने चिन्मयी से कहा- तुम्हें पेशाब तो नहीं लगा है?
उसने पूछा- क्यों?
मैंने कहा- मुझे प्यास लगी है। तुम्हारे पेशाब की प्यास! तुम्हारी बुर सामने है। मैं इसमें अपना मुंह लगाकर तुम्हारा पेशाब पीना चाहता हूँ। मैंने कई बार मुठ मारते सोचा था कि मैं चिन्मयी का पेशाब पी रहा हूँ। आज मुझे यह प्रसाद भी मिल ही गया।

चिन्मयी ने जोर लगाया और फव्वारे की तरह बूर के छेद से पेशाब की धार निकलने लगी।
कुछ मेरे मुंह में गई, कुछ चेहरे पर!
मुंह के अंदर जो गई वह अच्छा न लगने पर भी मैं पी गया।

फिर चिन्मयी की ही चड्डी उठाकर उससे मुंह पौंछ लिया।

मेरा लंड तन गया था।
मैंने देर न करते हुए अपने सब कपड़े उतार दिए और नंगा ही चिन्मयी के नंगे बदन पर लेट गया।

बहुत देर तक हम एकदूसरे से लिपटे रहे, एक दूसरे की देह को रगड़ते रहे, जगह जगह चूमते चाटते रहे।

अब बारी थी मेरे लंड के चिन्मयी के होठों से स्पर्श की!

मैंने जैसे ही अपना लंड उसके मुंह में डाला उसने अजीब सा चेहरा बना लिया।
फिर थोड़ी देर बाद उसे मज़ा आने लगा।

उसने लंड का कवर खोल दिया और उस पर जीभ फिराने लगी।
लंड सहलाने में मुझे इतना मज़ा कभी नहीं आया था।

बहुत देर तक वह लंड चूसती रही।

अब बारी थी गर्लफ्रेंड Xxx चोदने की! मुझे मिशनरी पोजीशन बहुत पसंद है।

मैंने उसे इसी पोजीशन में चोदने का फैसला किया। मैंने अपना लंड उसकी चूत के लबों पर फिराया।

वह जोर जोर से सांस ले रही थी।

मैं उसको अपने सामने नंगी देखकर विश्वास नहीं कर पा रहा था कि यह वही सेक्सी चिन्मयी है जिसको मैं अरसे से चोदना चाहता था।

अब वह समय नज़दीक आ गया था।

हम दोनों एक दूसरे से लिपट गए।
खूब जोर से धक्का देते हुए मैंने अपना टाइट लंड उसकी कोमल चूत गुफा में डाल दिया।
वह चीख पड़ी।

उसकी सील टूटी थी लेकिन लंड वहां पहली बार लैंड कर रहा था।
मैं थोड़ा धीरे हो गया।

वह चिल्लाती इससे पहले उसके होंठ अपने मुंह में भर लिया।
फिर धीरे धीरे चूत में लंड को अंदर बाहर करने लगा।

अब उसे मज़ा आने लगा था। वह सिसकार रही थी।
मैं तो जैसे स्वर्ग की सैर कर रहा था।

कितनी मुलायम होती है यार ये चूत … कितनी गर्म भी!
लंड अंदर जाता तो लगता जैसे उसकी बुर की दीवारें मेरे लंड का गला घोंट देंगी।

चारों ओर से बुर के अंदर का मुलायम मांस लंड को जकड़ लेता।
मुझे लगता, अब पानी निकलेगा, तब पानी निकलेगा।

इतना मज़ा मुझे आ रहा था कि मैं सोच रहा था, मेरा पानी निकले ही न और मैं चिन्मयी को ऐसे ही चोदता रहूं।

उसका पूरा जिस्म मेरी नंगी बॉडी को टच कर रहा था।

अब तो वह भी एक्टिव हो गई थी और धक्के मारने लगी थी।

मैंने पोजीशन चेंज करने की सोची।
मैं लेट गया और चिन्मयी को मेरे लंड पर बैठने को कहा।
उसने ऐसा ही किया।

अब वह मेरे सामने थी … आंखें बंद किये।
उसके बूब्स उसकी छाती पर झूल रहे थे; मैंने उन्हें हाथों में थाम लिया और मसलने लगा।

उसने आंखें खोल दीं और मेरी ओर देखने लगी।

लंड अंदर जाता तो उसे थोड़ा दर्द होता और वह आह बोल उठती।
लेकिन मज़ा उसे भी बहुत आ रहा था।

थोड़ी देर बाद चिन्मयी मेरे बदन पर लेट गई।
मैंने उसे बांहों में लिया और जमीन पर लिटा दिया।

सामने से आकर मैंने उसकी गोरी टांगों को पहले तो चाटा फिर उसे फैला दिया। सामने एक मुलायम झांटों से भरी चूत थी।

मैंने लंड को चूत के छेद में डाल दिया और झटके से इसे अंदर धकेल दिया।
इसी पोजीशन में काफी देर तक मैं उसे झटके पर झटके देता पेलता रहा।

यह भरोसा करना मुश्किल था कि मैं चिन्मयी को सच में पेल रहा था।
मैंने उसे खूब पेला … जमकर और मन भर!

मैंने चिन्मयी को तीन बार चोदा लेकिन एक बार और पेलने की हसरत नहीं जाती।

बहुत देर गर्लफ्रेंड Xxx के बाद जब शाम होने लगी तब जाकर चिन्मयी ने बस कहा।
मेरा मन तो नहीं मान रहा था लेकिन चिन्मयी की बात मानकर मैंने उसकी चूत में आखिरी बार पानी निकाला और लंड बाहर कर लिया।

कुछ देर तक हम दोनों एक दूसरे को नंगे बदन सिर्फ देखते रहे।

फिर अचानक मैंने उसकी आँखों में एक सवाल देखा।
मैं उठा और अपने बैग से एक मार्कर निकाला।

उसकी झांटों को किनारे किया और बुर की बगल में ही लिखा ‘I LOVE YOU TOO.’

यही चीज़ उसके दोनों स्तनों पर लिखा और उठकर कपड़े पहन लिए।

वह मेरे लिखे को काफी देर देखती रही और मन ही मन खुश होती रही।

मैंने उसे उठाया।
पहली बार चुदाई की वजह से उसे चलने में थोड़ी तकलीफ हो रही थी लेकिन वह खुश थी।
मैं भी बहुत खुश था।

उसने अपने कपड़े उठाए और टॉप पहनने लगी।
उसकी चड्डी मैंने अपने पास रख ली।

बिना चड्डी के जब वह जीन्स पहन रही थी तब मैंने एक बार और उसकी चूत को अपने पूरे मुंह में भर लिया और जोर से चूस लिया।
मेरे ही वीर्य का कुछ अंश मेरे मुंह में आ गया।

फिर उसने जीन्स पहन ली और चैन बन्द कर ली।
हम लोग गले मिले, मैंने उसके स्तन दबाए औऱ फिर अपने अपने रास्ते चल दिये।

यह चुदाई मेरी ज़िन्दगी की सबसे यादगार चुदाइयों में से एक है।

देसी गर्लफ्रेंड Xxx कहानी आपको कैसी लगी?
[email protected]