मेरे चोदू यार का लंड घर में सभी के लिए- 6

मैंने अपनी मॉम की चुदाई लाइव देखी; वो भी मेरे ही बॉयफ्रेंड के लंड से. मेरी मम्मी की गांड भी मारी उसने. ये सब हुआ कैसे? आप पढ़ कर मजा लें.

मॉम की चुदाई लाइव के पिछले भाग
मेरी मामी मेरे बॉयफ्रेंड से चुद गयी
में आपने पढ़ा कि मेरी मामी ने मेरे बॉयफ्रेंड से अपनी चूत और गांड मरवा ली.

कुछ दिनों तक मैं और मेरी मामी दोनों सागर के लन्ड से मज़ा पाते रहे.

अब आगे मॉम की चुदाई लाइव:

यहाँ कहानी सुनें.

फिर एक दिन मेरा जन्मदिन था तो उस दिन हम लोगों ने बस कुछ लोगों को बुलाकर घर पर जन्मदिन मनाया. उस दिन सागर भी था हमारे घर पर!
जब सब प्रोग्राम खत्म हो गया तो सागर भी जाने लगा.

आज उसको मम्मी ने रोक लिया रात में अपने ही घर!

तो मैं और मामी खुश हो गये. लेकिन आज नंबर मेरी मम्मी का ही था उससे चुदने का।

कुछ देर के बाद हम सबको मम्मी ने अपने अपने कमरे में जाने को बोला और सागर को अपने पास रोक लिया।

मैं कमरे में आने के बाद चुपके से उनपे नज़र रखने लगी.
आज मम्मी एक बहुत सेक्सी सी साड़ी पहने थी और वो सागर के साथ बैठ कर हॉल में दारू पी रही थी. सागर उसने बातें कर रहा था।

कुछ देर बाद मम्मी उसके थोड़ा करीब हो कर बैठ गयी और सागर ने अपना हाथ उनके कंधे पर रख लिया.
तो मम्मी एकदम उसके सट कर बैठ गयी.

और अब मुझे उन दोनों की बात सुनने की उत्सुकता हुई क्योंकि कमरे से कुछ सुनाई नहीं दे रहा था।

अब मैं चुपके से थोड़ा और आगे चली गयी तो मैंने सुना कि मम्मी सागर से बोल रही थी- पति की मौत के बाद से मैं बिल्कुल अकेली हो गयी थी. लेकिन जब से तुमसे भेंट हुई है, तुमने मेरी सारी चिंता ही दूर कर दी है. अब तो मानसी और उसकी मामी दोनों बहुत खुश रहती हैं. और जूही का भी मन लगा रहता है। तुमने मेरी पति की कमी पूरी कर दी.

इतना बोल कर मम्मी सागर के गले लग गयी और सागर ने भी उनके अपने से चिपका लिया. वो मम्मी की आधी नंगी पीठ पर हाथ रखकर सहलाने लगा।

अब सागर को मम्मी ने उठा दिया और खुद भी उठ गयी.
मम्मी की दारू खत्म हो गयी थी तो वो सब सामान वहां से उठा ले गयी.

सागर ने अपनी शर्ट निकाल दी और वहीं पर टंगी अपनी शॉर्ट्स पहनकर वो वहीं सोफे पर लेट गया.
तो कुछ ही देर बाद मम्मी फिर से बाहर आई.
आज वो अपनी एक बहुत पुरानी सेक्सी वाली नाइटी पहन कर आयी.

सागर की शायद तब तक आँख लग गयी थी.
लेकिन मम्मी की सोफे पर बैठते ही वो जाग गया और मम्मी से पूछा- क्या हुआ?
तो मम्मी बोली- अंदर गर्मी बहुत है. मुझे नींद भी नहीं आ रही है. तो क्या मैं यहां तुम्हारे साथ लेट जाऊं. शायद नींद आ जाए।

सागर की लॉटरी लगी थी तो वो कैसे मना करता.
तो सागर थोड़ा सा पीछे हुआ और सुधा को अपने आगे लिटा लिया.
उस सोफे पर जगह कम थी तो वो दोनों एकदम एक दूसरे में घुसे थे।

सागर सीधा लेटा था और सुधा सागर के तरफ मुंह करके उसके सीने पर हाथ रखे थी, उनकी चूचियाँ उसके बाजू से छू रही थी।
अब सुधा उससे पूछने लगी- सागर क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रैंड है?
सागर- नहीं आंटी, कोई नहीं.

मम्मी- अरे ये हो नहीं सकता. इतने हॉट और स्मार्ट हो तुम!
और उसके शरीर पर हाथ फेरते हुए मम्मी बोली- इतनी अच्छी बॉडी है तुम्हारी!
सागर- अरे अब क्या पता सब को!

सुधा- अगर तुम मेरे उम्र के होते अभी तो मैं तुमसे दूसरी शादी कर लेती या अगर मैं तुम्हारी उम्र की होती तो पक्का तुम ही मेरे बॉयफ्रेंड होते. मैं तुम्हारे साथ खूब घूमती और मज़े करती।

सागर- अच्छा मान लो कि आप मेरी उम्र की हो. अभी 21 साल की जवान लड़की और मेरी गर्लफ्रैंड हो आप तो?
सुधा- कितनी देर के लिए माना है?
सागर- अभी तो पूरी रात पड़ी है. आज रात भर के लिये!

सुधा- ठीक है. फिर सोच लो. बाद में पीछे मत हटना।
सागर- मैं इतना ज्यादा सोचता नहीं हूँ आंटी!

सुधा- देखो, अब तुमने आंटी बोल कर मज़ा खराब कर दिया. मुझको सुधा बोलो अगर आज रातभर के लिए मुझे अपनी गर्लफ्रैंड माना है तो!
सागर- ठीक है सुधा!

अब मम्मी उठी और उसको बीच में करके उसके लन्ड पर बैठ गयी और सागर के पूरे शरीर को चूमने लगी; उसके निप्पल्स को चाटने लगी.
और साथ ही साथ बोल रही थी- मेरी जान, आज की ये रात तुमको हमेशा याद रहेगी कि कितनी किस्मत वाली गर्लफ्रैंड मिली है तुमको!

अब सुधा सागर के होंठों पर अपने होंठ रख कर उसको चूसने लगी जिसमें सागर भी उनका साथ देने लगा.
सागर अपना हाथ मम्मी की गांड पर रख कर नाइटी की ऊपर से सहलाने, दबाने और मारने लगा।

सुधा कुछ देर सागर के होंठ चूसने के बाद दूसरी तरफ मुंह करके 69 की पोजीशन में लेट गयी और सागर का लन्ड उसकी शर्ट्स के ऊपर से ही मसलने और चूसने लगी।

सागर भी उनकी गांड से नाइटी उठा कर उसने अपनी उंगलियों पर थूक लगा कर उसमें उंगली करने लगा.
इधर सुधा ने सागर की शॉर्ट्स सरका दिया और उसका खड़ा लन्ड अपने मुंह में गपक लिया और बड़ी उत्तेजना से चूसने लगी.
सागर भी सुधा की चूत और गांड के छेद को अपनी जीभ घुसा घुसा कर चाटने लगा।

तकरीबन 15 मिनट बाद सुधा खड़ी हुई और अपनी नाइटी निकाल कर बगल वाले सोफे पर रख दिया और सागर को भी नंगा कर दिया।

अब मम्मी सागर के तरफ मुंह करके अपनी चूत से सागर के लन्ड पर सवार होने लगी।
सागर का लन्ड धीरे धीरे सुधा की चूत में जाता, वैसे वैसे मम्मी की कामुक सिसकारियाँ बढ़ती जाती।

कुछ ही समय में सागर का पूरा लन्ड सुधा की चूत में समा गया.
जिसके बाद अब सुधा खुद उचक उचक के अपनी चूत सागर के लन्ड से मरवाने लगी.

साथ ही साथ सुधा अपनी कामुक सिसकारियां ‘उफ़ उफ़्फ़ मेरे यार … बहुत सालों की प्यासी हूँ … बुझा दे मेरी प्यास … घुसा दे अपना पूरा लन्ड … आहह! लेने लगी.
वो इस बात से बेखबर थी कि उनकी बेटी अपनी मम्मी की चुदाई अपने ही बॉयफ्रेंड के लन्ड से होते हुए देख रही है।

अब सागर की मम्मी की हवा में झूलती हुए चूचियों को अपने हाथों में लेकर मसलने लगा.
और करीब आधे घंटे की चूत ठुकाई के बाद सुधा ने अपना पानी सागर के लन्ड पे छोड़ दिया और उठ गई।

अब सागर भी उठा और सुधा को फिर एक बार किस करते हुए उनकी चूचियों को पीने लगा और फिर सुधा को सोफे पर सीधे लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर मम्मी की दोनों चूचियों के बीच में अपना लन्ड फसा लिया.
सुधा ने अपनी दोनों चूचियों को हाथों से सटा लिया और अब सागर मानो मम्मी की चूचियों को चोदने से लगा।
लन्ड लम्बा होने के कारण सागर का लन्ड सुधा अपने मुंह में भी ले रही थी।

कुछ देर बाद सागर ने सुधा को उठाया और सोफे के हत्थे की तरफ उलटा करके लिटा दिया जिससे सुधा की गांड ऊपर उठ गई.
अब सागर ने पहले उनकी गांड चाटा और फिर अपना लन्ड दो झटके में पूरा डाल दिया.

अब फट फट की तेज आवाज के साथ सागर मेरा माँ सुधा की गांड मारने लगा और उनकी गांड में बहुत चांटे भी मारे।
सुधा अपनी उत्तेजना भरी सिसकारियाँ निकालकर सागर का इस चुदाई में साथ दे रही थी।

सागर ने कुछ देर सुधा की गांड पेलने के बाद अपनी रफ्तार और बढ़ा दी जिसके एक मिनट बाद वो उनकी गांड में ही झड़ गया।

इसी तरह उन दोनों ने रात भर चुदाई का मज़ा लिया.
और मैं अपने कमरे में आकर सो गई।

अगले दिन सुबह मैं भी सागर के साथ इंस्टिट्यूट आ गयी.
आज उसने एक अलग जोश में मुझे आफिस में चोदा जिससे मेरी हालत खराब हो गई. सागर ने मुझे किसी रंडी की तरह बहुत रफ तरीके से चोदा.
लेकिन इस चुदाई में अलग ही मज़ा था।

अब सागर मेरी, मम्मी और मामी की नियमित तरीके से ठुकाई करता है.

इसी बीच एक दिन मेरी मामी ने सागर को रात रुकने के लिए घर बुलाया.
उस दिन मम्मी घर से बाहर थी और उस दिन मामी ने मेरे सोने के बाद जूही की सील तुड़वाने का प्लान बनाया।

उस रात मैं जानबूझकर जल्दी खाना खाकर अपने कमरे में आ गयी.
मेरे कमरे में आने के आधे घंटे बाद सागर मेरे घर आया।

मैंने चुपके से अपने कमरे से बाहर आकर देखा तो सागर और मामी चुम्मा चाटी कर रहे थे.

कुछ देर बाद जूही को मामी ने अपने कमरे में सोने के लिए बुलाया.
तब तक सागर छत पर चला गया था।

जूही के सो जाने के बाद मामी पूरी नंगी होकर छत से सागर को बुला लायी और सागर के कपड़े उतार कर उसी कमरे पर और उसी बेड पर दोनों शुरू हो गये जिसपे जूही सोई थी।

कुछ देर बाद मामी सागर के लन्ड पर चढ़ कर चुदाई का मज़ा कामुक सिसकारियों से ले रही थी.
तभी जूही जाग गयी और अपनी मम्मी पर चिल्लाने लगी तो उसके मम्मी उसको समझाती हुई बोली- मुझे पता है कि रोज़ रात तुम अपने कमरे में चूत में उंगली करती हो. और अगर इस बात को अपने तक रखोगी तो इस आनंद में तुम भी शामिल हो सकती हो। अब तक सागर भी वहीं नंगा लन्ड खड़ा किये खड़ा था. जिसको जूही देख कर उस खेल में शामिल हो गयी।

उस रात दोनों माँ बेटी एक ही लन्ड से चुदी और उस दिन सागर ने सपनी की चूत और गांड दोनों की सील तोड़ दी।

उस दिन के बाद से मैं सागर ने इंस्टीट्यूट में ही चुद लेती और घर में कभी मम्मी कभी मामी और अब तो सपना भी सागर के लन्ड की दासी हो गयी।
सागर ने सपना को चोद चोद कर औरत बना दिया।

हम चारों एक ही लन्ड के सहारे हैं.
और ये बात सिर मुझे पता है कि सागर ने मेरे घर की सभी औरतों को चोदा है.

इसी तरह वो हमेशा से हमारे लिए खड़ा रहा और हम सबके लिए उसका खड़ा रहा।

आपको मेरी मॉम की चुदाई लाइव कैसी लगी? मुझे कमेंट्स और मेल में बताएं.
romanreigons123@gmail.com